लाल भिंडी की खेती करके कमाएं लाखो रुपये – जानें लाल भिंडी की खेती कैसे करें?

भारत में लाल भिंडी की खेती करते किसान लाखों का मुनाफा प्राप्त कर रहे हैं। लाल भिंडी की खेती करने के लिए गर्म और आर्द्र जलवायु की आवश्यकता होती है। लाल भिंडी की फसल के लिए अधिक पानी की आवश्यकता नहीं होती है। जिससे कम खर्च में अधिक मुनाफा होने की संभावना बनी है। भारत के कई राज्यों में लाल भिंडी की खेती चरम पर है। जहां किसान इस खेती को करके लाखों का मुनाफा प्राप्त कर रहे हैं।

Thank you for reading this post, don't forget to subscribe!

लाल भिंडी की खेती

भारत देश में लाल भिंडी की खेती करने के लिए गर्म गर्म जलवायु की आवश्यकता होती है जिस कारण उत्तर प्रदेश मध्य प्रदेश गुजरात महाराष्ट्र राजस्थान बिहार झारखंड और छत्तीसगढ़ जैसे राज्य में है यह खेती की जा रही है।

लाल भिंडी की फसल कितने दिन में तैयार होती है ?

लाल भिंडी की फसल तैयार होने में कम से कम 40 दिन लगते हैं। जो कि अन्य फसलों की तुलना में बहुत कम समय है. हालांकि हरी भिंडी की फसल तैयार होने में भी 40 दिन का समय लगता है लेकिन लाल भिंडी की फसल में मुनाफा दोगुना है।

बाजार में क्या है लाल भिंडी के दाम?

लाल भिंडी की खेती

मौजूदा समय में देखा जाए तो भारत में लाल भिंडी की खेती करके किसान लाखों का मुनाफा एवं समय की बचत कर रहे हैं। लाल भिंडी की खेती के दौरान पैसे की कम ही खपत होती है। किंतु बाजार में डूबने दामों पर बिकती है। मौजूदा समय पर लाल भिंडी के दाम ₹400 से ₹800 प्रति किलोग्राम तक है। जोकि हरी भिंडी की तुलना में दोगुने से चारगुने रेट है।

लाल भिंडी की खेती कैसे करें?

लाल भिंडी की खेती करने के लिए खेत को कल्टीवेटर की मदद से अच्छी तरह से जुताई करनी चाहिए। जुताई करने के बाद खेत को लगभग 4 से 5 दिन के लिए खुला छोड़ देना चाहिए। उसके बाद खेत की उर्वरक क्षमता बढ़ाने के लिए खेत में गोबर की खाद डाल कर अच्छे से मिला देनी चाहिए।

लाल भिंडी की फसल भी हरी भिंडी की तरह ही बोई जाती है। इसके पौधे की सिंचाई और बुवाई मौसम के अनुसार की जाती है मार्च के महीने में 10 से 15 दिन के अंतराल पर अप्रैल में 7 से 8 दिन के अंतराल पर और मई-जून में 4 से 5 दिन के अंतराल पर सिंचाई करनी चाहिए। अगर सावधानीपूर्वक लाल भिंडी की खेती की जाए तो लाखों का मुनाफा प्राप्त होगा।